भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

असांजो हुअणु, थियणु बि त आहे / मोतीलाल जोतवाणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जंहिं बस में घर खां दफ़्तर लाइ
मां निकितो आहियां
उन में को
ट्रांजिस्टर बमु रखियलु थी सघे थो...

ोइ त असीं सभु मुसाफ़िर
रे गुनाह उफट मारिया वेन्दासीं
..........................
रस्तो पार कन्दे
जीअं त ॿियनि जे ग़ल्तीअ करे
घणो करे थीन्दो आहे,
मां कंहिं तेज़ रफ़्तार कार जी चपेट में
अची सघां थो
उन हालत में मुंहिंजो लाशु
कलाकनि जा कलाक
सड़क ते लावारिस पियो हून्दो
............
ॿियो त ठहियो, मां कंहिं बि वक़्ति
पोलीस जे ग़त शिनाख़्त जो
शिकारु थी सघां थो
मूं लाइ मुंहिंजी पत्नी छा सोचीन्दी
अखियुनि में ख़ास तस्वीर खणी
मुंहिंजा ॿार छा सोचीन्दा
इन ॻाल्हि सां पोलीस खे
को सरोकार न आहे,
पोइ त जेसताईं शुनवाई थिए
मां हवालात में बंद पियो हून्दुसि
...........

न ॼाण केतिरनि इमकाननि मां
मां गुज़िरी रहियो आहियां
ऐं मूंते इन्हनि जो को असरु नाहे,
महाभारत जे लड़ाईअ
असां खे घणो घणो अगु
ऐं ॿिनि महाभारी लड़ायुनि
ओलह जे माण्हुनि खे हाणे
सेखारियो आहे
त असीं,
पंहिंजो पंहिंजो कमु कन्दा रहूं
हुअणु महज़ हुअणु बि हून्दो आहे
(ट्रांज़िस्टर बम, तेज़ रफ़्तार कार ऐं पोलीस-राजु
इहे महज़ आहिनि)
लेकिन असांजो हुअणु
हुअण सां थियणु (टकिराइणु) बि त आहे।