भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

असीं एथे ते ढोला छाओनी (ढोला) / पंजाबी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

असीं इथ्थे ते ढोला छाओनी
एहनाँ अक्खीयाँ दी सड़क बनाओनी
चन्न माही आवना
जीवें ढोला !
अंब डलियाँ--
जित्थे खिलारिया ई उत्थे खलीआँ !

भावार्थ


--'हम यहाँ हैं और ढोला छावनी में है
इन आँखों को सड़क बनानी है
चांद-सा प्रियतम आएगा
जीते रहो ढोला !
आम की फाँकें
जहाँ तुमने मुझे खड़ी होने को कहा था, वहीं खड़ी हूँ !'