भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

असुरों से तो जीत गए रण / नईम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

असुरों से तो जीत गए रण,
पर अपने से-
अपने राम परास्त हो गए।

दक्षिण पंथ विकट विचलन के,
सीता के हों या लक्ष्मण के;
दोराहे पर खड़े हुए प्रण
वैश्विकता के आल-जाल में
खाँटी बाम परास्त हो गए।

अर्जुन के हों या कि करण के,
हैं स्कंध अकाल मरण के;
क्षणजीवी आए अब दर्शन,

खोटों-से बाज़ार-हाट में
चोखे दाम परास्त हो गए।

असुरों से तो जीत गए रण,
पर अपने से-
अपने राम परास्त हो गए।