भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

असूल खां हू जॾहिं बि रुसी-रुसी थे वियो / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

असूल खां हू जॾहिं बि रुसी-रुसी थे वियो।
नसीब राज़ी थी हुन सां खुली-खुली थे वियो॥

ख़बर सुरी न थे हुन जी वॾीअ दग़ा जी, पर।
पर संदसि ज़र्रो भी सुठो कमु, हुली-हुली थे वियो॥

जॾहिं जॾहिं भी वफ़ा जी थे दोस्त हाम हंई।
असां जो कंधु त लॼ में झुकी-झुकी थे वियो॥

जॾहिं बि पोयां लॻो दोस्त जो छुरो कंहिं खे।
हियांउ मुंहिंजो त फट जाँ कुरी-कुरी थे वियो॥

हो लहर लहर जे चेहरे ते मूंझि जो नीशानु।
कपरु बि सोच में हर-हर ॿुडी ॿुडी थे वियो॥

पखी अजीब हुओ फ़िक्र ऐं तसव्वुर जो।
क़लम जीनौक ते उतिरी, उॾी-उॾी थे वियो॥