भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

असो मनीराम आलसी, बिना माँग को आयो / पँवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पँवारी लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

असो मनीराम आलसी, बिना माँग को आयो
माँग बाप कय्ह लेतो, माँग लेय खऽ आतो
असो मनीराम आलसी, बिना पान को आयो
बरई बाप कय्ह लेतो, पान लेय खऽ आतो।।
असो मनीराम आलसी, बिना बतेसा को आयो।
बनिया बाप कय्ह लेतो, बतेसा लेय खऽ आतो।।