भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अस्थिर है छवि तुम्हारी / ओसिप मंदेलश्ताम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: ओसिप मंदेलश्ताम  » संग्रह: तेरे क़दमों का संगीत
»  अस्थिर है छवि तुम्हारी


अस्थिर है

छवि तुम्हारी

और बेहद यातनादायक


कोहरे में मैं छू नहीं पाया उसे

पर मुँह से निकला अचानक-- ऎ ख़ुदा!

हालाँकि सोचा नहीं था मैंने

कि ऎसा कहूंगा


ईश्वर का नाम

जैसे मेरे हृदय से निकल कर उड़ा

एक बड़ा पक्षी है कोई

जिसके सामने लहरा रहा है

घना कोहरा

और पीछे है खाली पिंजरा

(रचनाकाल : 1912)