भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अस्वीकृति / इला प्रसाद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं तलछट सी निकालकर
फेंक दी गई हूँ
किनारे पर
लहरों को मेरा
साथ बहना
रास नहीं आया

मैं न शंख थी
न सीपी
कि चुन ली गई होती
किन्ही उत्सुक निगाहों से
रेत थी
रेत सी रौंदी गई
काल के क्रूर हाथों से