भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अस निज नाम ज्ञान गम होई / संत जूड़ीराम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अस निज नाम ज्ञान गम होई।
नाम साध अदबुध अगाध है सुरत मौन मत डोलत सोई।
ज्ञान रंग अंग-अंगरस भीजत प्रेम प्रीत मत पीवत सोई।
है भरपूर नाम को प्रूाला त्रिविध ताप संताप विगोई।
जूड़ीराम सतगुरु की महिमा मुक्त पदारथ पावे सोई।