भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अस हर नाम हिरदय जब आबे / संत जूड़ीराम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अस हर नाम हिरदय जब आबे।
सकल सोच मोचन सुकदायक दुख दालुद्र नसाबे।
आगम निगम निहारत निस दिन पंडत मनु कह भावे।
सेस महेश सुरेश और सब प्रेम मगन गुण गावे।
उड़गन कोट ससी परगासत रवि सों दिविस कहावे।
ऐसई नाम उदय के भय से भ्रम श्रम दूर गमावे।
जूड़ीराम नाम के सुमरे संत परम पद पावे।