भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अहसासु / माया राही

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तो ते जॾहिं प्यारु आयो
तुंहिंजा चप चुमणु चाहियमि
त उते
अॻमें ई
किनि ॿियनि पनि जे हुजण जो
अहसासु थियो!

थाॿो खाधुमि
हथु वधाए
तुंहिंजो हथु पकिड़णु चाहियुमि
त उते
अॻमें ई
कंहिं ॿिए जे हथ जे हुजण जो
अहसासु थियुमि!

नेणनि में
अकीचारु नींहुं भरे
तुंहिंजियुनि नज़रुनि सां
प्यारु वंडणु चाहियुमि
त तुंहिंजियूं नज़रू
अॻमें ई
किनि ॿियुनि नज़रुनि सां
अड़ियल ॾिठमि!
ॼाण न हुई मूंखे त
जीवन साथी त तूं
मुंहिंजो आहीं
पर तुंहिंजियूं
ॿियूं केतिरियूं
साथी आहिनि!