भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अहसास जो अभाउ मूं में घरु करे वञे / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अहसास जो अभाउ मूं में घरु करे वञे।
मंतर पढी कोई मूं खे पत्थरु करे वञे॥

जादूगर आहे वक्तु, करे गुज़िरे जो वणेसि।
गोहर खे संगु, संग खे गोहरु करे वञे॥

ज़ख़मनि जे लुत्फ़ लाइ घणो थी लुछे हीअ दिल।
अॼु रंगु तुंहिंजीअ मुरिक जो, खंजर करे वञे॥

परदेस में घरु आहे, ऐं परदेसु आहे घरु।
कल ना कॾहिं को बंद हीउ भी घरु करे वञे॥