भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अहसास / तुम्हारे लिए / मधुप मोहता

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चलो फिर से समेटें
तुम्हारी मुसकराहट इस नज़र में
और खुशबू पत्तियों की एक पुड़िया में
तुम्हारे गेसुआंे को हाशियों पर बिखर जाने दें
और मेहँदी से रचें इक नज़्म
पिरोएँ लफ़्ज़ पायल में
रुनझुन गुनगुनाने दें
तुम्हारी याद के जुगनू समेटें अँजुली भर लें
तुम्हारे रंग सपनों में भरें
पलकों में समेटें तुम्हें
चलो फिर से समेटें
तुम्हारे रेशमी अहसास साँसों में
और तुम्हारा लम्स पहनें उँगलियों में,
तुम्हारे दर्द को फिर धड़कनों में उतर जाने दें
और जला लें दिल के मयखाने में
तुम्हारे ग़म की शम’अ
झिलमिलाने दें
तुम्हें आग़ोश में लें
किसी सपने की बाँहों में समेटें
बाँहों में समेटें तुम्हें
चलो फिर से समेटें।