भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अॼु चंडु चेटी जो आयो, भाउर भेनर गॾिजी सभेई / लीला मामताणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अॼु चंडु चेटी जो आयो, भाउर भेनर गॾिजी सभेई
गीत खु़शीअ जा ॻायो,
हिंदुनि ते जॾहिं जुल्म थियो
तॾहिं लालणु पाण पधारियो, चेटी चंड ॾींहिं जनमु वठी
तंहिं संधियुनि जो सॾड़ो ओनायो, जेको लाल जे दर ते ईंदो
थींदो लायो सजायो-अॼु चेटी चंड...

सुहणी आ दरॿार लाल जी, उन जी सोभिया नियारी
जोतियुनि जी झंकार आ सुहिणी, लॻे थी ॾाढी प्यारी
नाचू नचायो-छेजूं/ लॻायो, दुहिल दमामा वॼायो
अॼु चेटी चंड...

सुवाली जेको दर ते आयो कीन वियो को ख़ाली
तूं ही दाता, तूं ही माता, सारे जॻ जो वाली
बहराणा लालण जा खजं/दा- अखा फुला सभ पायो
अॼु चेटी चंड...