भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अॼु जंहिं सूरत में / श्रीकान्त 'सदफ़'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वेही ॻाल्हाइण जी
यानी
असां जे मिलण जी, गॾिजण जी
का बि उम्मीद कान बची आ
हीउ मुफ़ासिला बणाए रखण जो
कहिड़ो मक़्सदु वञी बचियो आहे!