भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अॼु पंहिंजे दिलि जा ज़ख़्म मिटाए नथी सघां / लीला मामताणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अॼु पंहिंजे दिलि जा ज़ख़्म मिटाए नथी सघां
छो त मुंहिंजो सॼण तोखे विसारे नथी सघां

मुहिबत में पंहिंजो सभु कुछ लुटाइ छॾियो अथमि
महबूब जवानीअ खे विञाए नथी सघां
अॼु पंहिंजे दिलि जा ज़ख़्म मिटाए नथी सघां

तुंहिंजे अचण जूं राहूं मां पेई निहारियां
महबूब कॾहिं ईंदो ॿुधाए नथी सघां
अॼु पंहिंजे दिलि जा ज़ख़्म मिटाए नथी सघां

पंहिंजी हयाती अरपियमि तुंहिंजे ही चाह में
हाण तो बिनां ज़िंदगी घारे न थी सघां
अॼु पंहिंजे दिलि जा ज़ख़्म मिटाए नथी सघां

उमेद ते जीयां थी कॾहिं दीदार थींदो
इन आस खे आउ सुहिणा विञाए नथी सघां
अॼु पंहिंजे दिलि जा ज़ख़्म मिटाए नथी सघां