भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अॼु समे जी हवा - हलीअ ते छॾियो / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अॼु समे जी हवा - हलीअ ते छॾियो।
ज़िंदगीअ खे हली-चलीअ ते छॾियो॥

विकिणिणो पाणु थव, त माठि कयो।
अघु ख़रीदार जी ख़ुशीअ ते छॾियो॥

कीअं ख़ुद पाण खां भी दूर थिबो?!
इहो सभु शहरी ज़िंदगीअ ते छॾियो॥

कहिड़ो ऐं किअं तव्हां खे मौतु ॾिजे?
दोस्तनि जी ही दोस्तीअ ते छॾियो॥

रंज व ग़म जे जहान में कीअं जिऊँ?
इहो उम्मीद जी ठॻीअ ते छॾियो॥

किथि धमाकनि जो क़ाफ़िलो नींदो-
साज़िशुनि जे ही रहबरीअ ते छॾियो॥

बा ख़बर भी, कॾहिं त ठॻिजी वञो।
को त कमु दिलि जी सादिगीअ ते छॾियो॥