भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आँखें खोलो / उषा यादव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पढ़ी किताबें तुमने इतनी,
पर सीखा है क्या, बोलो?
मुँह से कुछ कहने से पहले,
हृदय तराजू पर तोलो।

करवी बात न मुँह से निकले,
वाणी में मिसरी घोलो।
जालना कूढ़ना बुरी बात है,
मैल सभी मन का धोलो।

हँसता सूरज, खिलती कलियाँ,
तुम भी चहको, खुश हो लो।
दुनिया ही परिवार दिखेगी,
बस, मन की आँखे खोलो।