भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आँगन-3 / नील कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घर के अंतरंग को
पूरी दुनिया से जोड़ता था
आँगन, उन दिनों
(अब पूरी दुनिया ही
अँट सकती है आँगन में)

बिना गुज़रे हुए आँगन से
न तो पहुँचा जा सकता था
घर के किसी कोने में,
और न ही मापी जा सकती
थी पृथ्वी,
अपनी समस्त गोलाई में

आँगन, घर और बाहर के बीच
एक ज़रूरी परदा भी है,
जिसके गिरते ही
दुनिया समा जाती है घर में
और घर बदल जाता है
दुनिया में ।