भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आँधी आई / मोहम्मद साजिद ख़ान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आँधी आई बडे़ ज़ोर-से
धूल उड़ी ।।

उड़ा बिछौना, उड़ी दुलाई
और उड़ा टिन्नू का टोप,
टीन गिरा छत ऊपर रक्खा
मानो अभी दगी हो तोप ।

गिरा घोंसला, उड़कर भागे
चिड़ा-चिड़ी ।।
 
दौड़ी मम्मी, दौड़ी दीदी
खिड़की बंद की तत्काल,
लेकिन धूल पड़ी आँखों में
टिन्नू जी रोए बेहाल ।

बिजली गुल हो गई,न जाने
कौन घड़ी ।।