भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आँसुओं की कथा यह फिर-फिर कहेगा / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आँसुओं की कथा यह फिर-फिर कहेगा
हाँ, हमारा गीत यह ज़िंदा रहेगा
 
दर्द की मीनार के क़िस्से सुनाता
तेज़ झोंके भी हवा के यह सहेगा
 
सुनो, इसने दुक्ख की तासीर देखी
वक़्त के तूफ़ान के सँग भी बहेगा
 
पत्तियों का शोर सुनते हो, पता है
गीत कहता - रात-भर जंगल दहेगा
 
जो हुआ, उसकी ख़बर देता रहा है
और जो होगा, उसे भी यह कहेगा