भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आँसुओं भरी आँखें / भावना कुँअर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


गहन दुःख
न देख सका मेरा
तो फूट पड़ा
साथी नीला आसमाँ
देने आ गए
सब मेरा ही साथ
चाहे प्रभात
खेत औ खलिहान
हों नन्हे पौधे
या फूलों की कतार।
भर ही गया
आँसू से लबालब
पूरा जहान।
धुँधला दिखे अब
सब कुछ ही।
आँसुओं भरी आँखें
रूँधा- सा गला
भारी हुआ था मन।
तभी आ गई
नन्हीं धूप किरण।
खुला आसमाँ
खिल गया मेरा भी
मुरझाया वो मन।