भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आँसुओं में डुबो गया जैसे / गोविन्द राकेश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आँसुओं में डुबो गया जैसे
तीर ख़ुद को चुभो गया जैसे

भागने लग गये सभी देखो
आज क़्त्ले आम हो गया जैसे

भीड़ भी कम अभी इघर दिखती
आज ये शह्र खो गया जैसे

हाक़िमो की ख़ता बता डाली
अब ये अखबार तो गया जैसे

झूठ राकेश ने कहा ही क्यों
लाज इस बार धो गया जैसे