भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आँसुनि कि धार और उभार कौं उसांसनि के / जगन्नाथदास ’रत्नाकर’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आँसुनि कि धार और उभार कौं उसांसनि के
तार हिचकीनि के तनक टारि लैन देहु ।
कहै रतनाकर फुरन देहु बात रंच
भावनि के विषम प्रपंच सरि लेन देहु ॥
आतुर ह्वै और हू न कातर बनावौ नाथ
नैसुक निवारि पीर धीर धरि लेन देहु ।
कहत न आबै हैं कहि आवत जहाँ लौं सबै
नैकु थिर कढ़त करेजौ करि लेन देहु ॥109॥