भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आँसु / विमला तुम्खेवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


फेरि म एकपटक
नमीठो गरी दुखेँ

लुथ्रुक्क भएँ आँसुका धाराहरुमा
दुख्नु आफैमा नमीठो रहेछ
तर
मैले बुझ्न सकिनँ
आँसुका भाषाहरुलाई
न बुझ्न सकेँ आफ्नै दुखिरहेको मुटुलाई ।