भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

आँसू खारे क्यों हैं / असंगघोष

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आँखों से
बहते पानी ने
पलकों से पूछा
मैं खारा क्यों हूँ?

झपकती हुई बोलीं पलकें
सुख-दुख के समन्दर को
खुद में समेट रखा है
हमने

तुम मतवाले हो
मोती बन
हमारी कोर से
लुढ़कते हो ज्योंही
यह सुख-दुःख भी
बारी-बारी
थोड़ा-थोड़ा-सा
उन बूंदों में घुल-मिल
बाहर आ जाता है

यह सुख-दुःख का
समंदर ही
खारा है।