भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आंक भणां / शिवराज भारतीय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आंक भणां भई आंक भणां
पढ़ लिख चोखा मिनख बणां

खाओ पीओ कूदो खेलो
टाबरियां रो काम ओ पै‘लौ
पण पढ़णों भी नही झमेलो
पकड़ां आपां स्कूल रो गेलो
बेली साथी साथै ले गे
बस्तो ले पोसाळ चलां
आंक भणा भई आंक भणां

रामू रामी दोन्यूं आओ
पाटी बरतो साथै ल्याओ
सगळा म्हानै पाठ सुणाओ
बारखड़ी गिणती पढ़ ज्याओ
ए बी सी डी मारी मांडगे
पाछै आपां गांवां रमां
आंक भणा भई आंक भणां।