भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आंतरो / गंगासागर शर्मा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कल्पना रै समंदर में
डूबूं-तिरूं
जथारथ री जमीं माथै
उतरतां लागै डर।
क्यूं है
सुपना अर साच में
ओ आंतरो?
मून भांगै
मां रो हेलो
‘लाडेसर कमठाणै कोनी जावै कांई आज?’