भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आंधी / हरीश हैरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बूढी ठेरी में
अचाणचकै इज
किंया बापरगी ज्यान
बण्या राह छोड़'र
चाली उझड़
खेत, खळां
गाँव-गुवाड़ में
डाकण दांई
हांफळा मारती नै देख'र
गाँव रा बडेरा
साची केवै हा
आ तो आंधी है।