भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आइए शुरू करें / ओम धीरज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हर तरफ़ पसरा अँधेरा कब तलक़ ढोते रहेंगे
भूल कर अपना सवेरा कब तलक़ सोते रहेंगे
आइए एक दीप से एक दीप को ज्योतित करें
हर समय सूरज का रोना कब तलक रोते रहेंगे