भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आइ कह कS न अएलन तs हम की करू / भावना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आइ कह क∙ न अएलन तs हम की करू
न ऊ वादा निभएलन तs हम की करू...

हम त लिखेला कहली जाइते पाती
हुनका छुट्टी न मिलल तs हम की करू...

आइ सावन-भादों आँख से झर रहल
ओइमे फागुन न लएलन तs हम की करू...

आइ सब कुछ राजनीति के रंग में रंगल
गिरगिट जईसन बद∙ललन तs हम की करू...

आइ फगुआ के दिनों हए बीत रहल
ऊ खाएल किरिया के तोरलन तs हम की करू...