भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आईना / कमला दास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आसान है एक मर्द की तलाश जो तुम्हें प्यार करे
बस, तुम ईमानदार रहो कि एक औरत के रूप में तुम चाहती क्या हो
आईने के सामने उसके साथ नग्न खड़ी हो
ताकि वह देख सके कि वह है तुमसे ज़्यादा मजबूत
और इस पर भरोसा करे
और तुम और ज्यादा कोमल जवान प्यारी दिखो
स्वीकृति दो अपनी प्रशंसा को ।

उसके अंगों की पूर्णता पर ध्यान दो
झरने के नीचे लाल होती उसकी आँखें
बाथरूम की फ़र्श पर वही शर्माती चाल
तौलिये को गिराना, और उसका हिला कर पेशाब करने का तरीका
उन सभी बातों का प्रशंसनीय ब्यौरा जो उसे मर्द बनाती है
तुम्हारा इकलौता मर्द ।

उसे सब सौंप दो
वह सब सौंप दो जो तुम्हें औरत बनाती है
बड़े बालों की ख़ुशबू
स्तनों के बीच पसीने की कस्तूरी
तुम्हारी माहवारी के लहू की गर्म झनझनाहट
और तुम्हारी वे सब स्त्री भूख ।

हाँ, आसान है एक मर्द पाना जिसे तुम प्यार कर सको
लेकिन उसके बाद उसके बिना रहने का सामना करना पड़ सकता है ।

ज़िन्दगी के बिना ज़िन्दा रहना
जब तुम आसपास घूमती हो
अजनबियों से मिलती हो
उन आँखों के साथ जिन्होंने अपनी तलाश छोड़ दी है
कान जो बस उसकी अन्तिम आवाज़ सुनते हैं कि वह पुकारता है तुम्हारा नाम
और तुम्हारी देह जो कभी उसके स्पर्श से चमकते पीतल-सा जगमगाती थी
जो अब फीकी और बेसहारा है ।