भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आई है फूलों की बहार / ब्रजभाषा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

आई है फूलों की बहार, बधाई होवै।
पहली बधाई याके, बाबा कू होवै।
दादी न गाए मंगला चार, बधाई होवै। आई है फूलों...
दुजी बधाई याके, ताऊ कू होवै।
ताई ने गाए मंगलाचार, बधाई होवै आई है फूलों...
तीजी बधाई याके, चाचा कू होवै।
चाची ने गाए मंगलाचार, बधाई होवै। आई है फूलों...
चैथी बधाई याके, फूफा कू होवै।
बुआ ने सतिए लगाए बधाई होवै। आई है फूलों...
पाँचवीं बधाई याके, नाना कू होवै।
नानी ने भेजो छुछक आज, बधाई होवै। आई है फूलों...
छटी बधाई याके, मामा कू होवै।
मामी ने गाए मंगलाचार, बधाई होवै। आई है फूलों...
सातवीं बधाई याके, बाबुल कू होवै।
आँगन में छाई खुशियाँ आज, बधाई होवै।
आई है फूलों की बहार, बधाई होवैं।