भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आएँ आँसू अगर आँखों में तो बस पी जाएँ / मनमोहन 'तल्ख़'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आएँ आँसू अगर आँखों में तो बस पी जाएँ
हाल सब पूछते हैं हम न कहीं भी जाएँ

देखते हो जो कभी महव-ए-सुख़न ख़ुद से हमें
हैं वो बातें भी के ख़ुद से जो फ़क़त की जाएँ

हम कई रोज़ से बे-वजह बहुत ख़ुश हैं चलो
ज़िंदगी की ये अदाएँ भी तो देखा जाएँ

हम तो यूँ चुप हैं कि क्या बात किसी से की जाए
फिर भी मुँह से कई बातें तो निकल ही जाएँ

राह चलते मैं जिसे देखता हूँ लगता है
जैसे बे-वजह सी आँखें हैं के तकती जाएँ

क्या मिलें ‘तल्ख़’ किसी से कभी आते जाते
घर की चौखट पे क़दम रख के पलट भी जाएँ