भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

आए हौ पठाए वा छतीसे छलिया के इतै / जगन्नाथदास ’रत्नाकर’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आए हौ पठाए वा छतीसे छलिया के इतै
बीस बिसै ऊधौ वीरवामन कलाँच ह्वै ।
कहै रतनाकर प्रपञ्च न पसारौ गाढ़ै
बाढ़ै पै रहौगे साढ़े बाइस ही जाँच ह्वै ॥
प्रेम अरु जोग मैं है जोग छठैं-आठैं परयौ
एक ह्वै रहैं क्यों दोऊ हीरा अरु काँच ह्वै ।
तीन गुन पाँच तत्व बहकि बतावत सो
जैहै तीन-तेरह तिहारी तीन-पाँच ह्वै ॥78॥