भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आओ आओ गोरी रानी आओ / कोरकू

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

आओ आओ गोरी रानी आओ
आओ आओ गोरी रानी आओ
अमराई की छाई में सोना गोटी खेले
अमराई की छाई में सोना गोटी खेले
मैं नहीं आऊंरे लखपति छोरा
मैं नहीं आऊंरे लखपति छोरा
तेरा माऊगोदी इन्दिरा झूले
तेरा माऊगोदी इन्दिरा झूले
मैं नहीं आऊंरे लखपति छोरा
मैं नहीं आऊंरे लखपति छोरा
तेरा बापू गोदी इन्दिरा झूले
तेरा बापू गोदी इन्दिरा झूले
आओ आओ गोरी रानी आओ
आओ आओ गोरी रानी आओ
अमराई की छाई में सोना गोटी खेले
अमराई की छाई में सोना गोटी खेले
मैं नहीं आऊंरे लखपति छोरा
मैं नहीं आऊंरे लखपति छोरा
मेरा काकी के गोदी में इन्दिरा झूले
मेरा काकी के गोदी में इन्दिरा झूले
मैं नहीं आऊंरे लखपति छोरा
मैं नहीं आऊंरे लखपति छोरा
मेरा काका की गोदी में इन्दिरा झूले
मेरा काका की गोदी में इन्दिरा झूले
आओ आओ गोरी रानी आओ
आओ आओ गोरी रानी आओ
अमराई की छाई में सोना गोटी खेले
अमराई की छाई में सोना गोटी खेले
अमराई की छाई में सोना गोटी खेले

स्रोत व्यक्ति - योगेश, ग्राम - मोरगढ़ी