भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आओ आओ यशोदा के लाल / भजन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आओ आओ यशोदा के लाल
आज मोहे दरशन से कर दो निहाल
आओ आओ,
आओ आओ यशोदा के लाल

नैया हमारी भंवर मे फंसी
कब से अड़ी उबारो हरि
कहते हैं दीनों के तुम हो दयाल
आओ आओ,
आओ आओ यशोदा के लाल

अब तो सुनलो पुकार मेरे जीवन आधार
भवसागर है अति विशाल
लाखों को तारा है तुमने गोपाल
आओ आओ
आओ आओ यशोदा के लाल

यमुना के तट पर गौवें चराकर
छीन लिया मेरा मन मुरली बजाकर
हृदय हमारे बसो नन्दलाल
आओ आओ
आओ आओ यशोदा के लाल