भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आओ चाँद / प्रकाश मनु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जल्दी आओ भैया चाँद,
ले लो एक रुपैया चाँद!
कितने अच्छे लगते हो जी,
सर्दी में तुम ठिठुर न जाना!
कर लो एक मढैया चाँद!

चाँदनिया में मुस्काते हो
सारे जग को नहलाते हो,
जरा इधर भी हँस दो प्यारे-
टेर रही है मैया चाँद!

नीले नभ का घूँघट लेकर
सब तारों को न्योता देकर,
एक बार तो नाच दिखा दो-
धा-धिन, ता-ता-थैया चाँद!

गरम दूध यह, और मलाई
चाँदी की थलिया में लाई,
एक साँस में सब पी जाओ-
आओ, पाँ-पाँ पैयाँ चाँद!