भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आओ जिन आइबे को गहो जिन गहिबे को / तोष

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आओ जिन आइबे को गहो जिन गहिबे को ,
गहे रहिबे को छोड़ि छोड़िकै सुनावती ।
खीझिहू को रीझि झिझिकारिबो मया है अरु ,
रोसै रस ज्योँ ज्योँ भृकुटीन को चढ़ावती ।
कहै कवि तोष हाँ को नाहिँये कहत नारि ,
रावरी सोँ तुमसो न भेद मैँ दुरावती ।
सुख जो चहौगे तो न भरम गहौगे लाल ,
निपट निबोढ़न की पारसी बतावती ।


तोष का यह दुर्लभ छन्द श्री राजुल महरोत्रा के संग्रह से उपलब्ध हुआ है।