भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आऔ जौ कलजुग कौ पारौ / ईसुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आऔ जौ कलजुग कौ पारौ।
सतयुग दैगव टारौ।
मौं देखी पंचयात होत है,
देखौ चिकनो दुआरौ।
कर पंचयात सरपंच चले गए,
कोंनौ भओ न निवारौ।
ईसुर कात चलौ भग चलिये
इतै न होत गुजारौ।