भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आकाश की प्रेम-वर्षा / संजय शाण्डिल्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चारों ओर से नदी को घेर कर
आकाश
कई दिनों से
उस पर प्रेम बरसा रहा है ...

कभी घनघोर
कभी छिटपुट वर्षा
लगातार हो रही है नदी की देह पर ...

आकाश की
प्रेमाकुलता के समय
नदी भी
उसे भेजा करती थी हृदय-वाष्प

नदी,
कवि हटता है
तुम दोनों के बीच से
अब तुम्हीं सम्भालो आकाश का यह प्रेम तरल — प्रेम विरल
झँझावातों की सवारी से भेजा हुआ ...