भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आकाश के आंगन में / किरण मल्होत्रा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आकाश के आंगन में
खरगोश-सी सफ़ेद
रेशम-सी कोमल
छोटी-छोटी बदलियाँ

कल थी
आज नहीं हैं
जैसे यादें कुछ पुरानी
कल थी
आज नहीं हैं

मन भी शायद
एक आकाश है
कभी पल में
उमड़ती-घुमड़ती
घटाएँ घनघोर
तो कभी
मीलों तक
लंबी खामोशियाँ...