भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आकाश / अविनाश श्रेष्ठ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


जब पनि यन्त्रणाहरुमाझ घेरिएर
भएको छु हताश–हताश;
एउटी कुशल प्रेयशी झैँ
सान्त्वना दिन
आएकी छे आँखाभरि आकाश ।