भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आख़िरुल-अम्र तेरी सम्त सफ़र / अहमद 'जावेद'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आख़िरुल-अम्र तेरी सम्त सफ़र करते हैं
आज इस नख़्ल-ए-मसाफ़त को शजर करते हैं

जो है आबाद तेरी आइना-सामानी से
हम इसी ख़ाना-ए-हैरत में बसर करते हैं

दिल तो वो पेट का हल्का है के बस कुछ न कहो
अपनी हालत से कब ऐसों को ख़बर करते हैं

वस्ल और हिज्र हैं दोनों ही मियाँ से बैअत
देखिये किस पे इनायत की नज़र करते हैं

दिल ने कुछ ज़ोर दिखाया तो ये सुनना इक दिन
हम भी अलवंद-ए-ग़म-ए-यार को सर करते हैं

तुम को तो दीन की भी फ़िक्र है दुनिया की भी
भाई हम तो यूँही बेकार बसर करते हैं