भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

आखिर कब तक? / असंगघोष

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कान्हा के
इस शान्त समय में
खोज रहा हूँ
स्वयं को
दरख्तों के पार
क्षितिज तक
जहाँ आभास हो रहा है
मेरे होने का
वहाँ

मैं क्यों भूल जाता हूँ
खुद की पहचान
मैं कौन हूँ
कहाँ से आया
आखिर
मुझे कोई
क्यों खोज रहा है?

बाँस के झुरमुटों में
बेखौफ चरते बायसनों
मैदानों में विचरण करते
चीतलों के बीच
अपने अस्तित्व के साथ

अचानक
चीतलों की चेतावनी सुन
सावधान हो जाता हूँ
बायसन अभी भी बेखौफ है
चीतल भाग गए हैं

मैं चौकन्ना हो
इधर-उधर देख
सूँघता हूँ
पास ही एक दुर्गन्ध
खतरा!
यहीं-कहीं
मेरे आस-पास ही है

तब मुझे अहसास होताहै
मैं कौन हूँ
क्या हूँ
यहाँ क्या कर रहा हूँ
चारों ओर देखता हूँ
बच निकलने का रास्ता, पर
सब ओर दुर्गन्ध आती प्रतीत होती

समय
अभी भी शान्त रह
अपनी गर्त में छिपाए है
तुम्हारी पदचाप
मेरी मौत

इस तरह तुम्हारी रची
यही मेरी नियति है
तथाकथित विधाता
हर बार तुम्हारे जबड़ों का ग्रास बन
अनंत आकाश में
टूटे तारों की तरह
नष्ट हो जाना।

मुझे ही क्यों
हर बार
होना पड़ता है
तुम्हारी क्रूरता का
शिकार
आखिर कब तक?