भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आगाज़ की तारीख़ / फ़रहत एहसास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इक मुसाफ़िर हूँ
बड़ी दूर से चलता हुआ आया हूँ यहाँ
राह में मझसे जुदा हो गई सूरत मेरी
अपने चेहरे का बस इक धुँधला तसव्वुर है मेरी आँखों में
रास्ते में मेरे कदमों के निशाँ भी होंगे
हो जो मुमकिन तो उन्हीं से
मेरे आगाज़ की तारीख़ सुनो.