भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आग-2 / श्याम बिहारी श्यामल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मत जलो धू-धू कर
ठूँठ-बाँड़ जंगल में

कुछ कर सको तो
फटो गरज़कर धरती से
साथ लाना लावा
और पानी  !