भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आग और पानी / दिविक रमेश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैंने कहा

आग


आग

चिड़िया चोंच में दबा कर

पहुँच गई

जंगल


जंगल में आग लगी थी।


मैंने कहा

पानी

जाने कहाँ गुम हो गई

झुलसे पंखों वाली चिड़िया


जंगल में आग लगी है

जंगल जल रहा है


पानी

शहर के सबसे बड़े म्यूज़ियम में

सड़ रहा है।