भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आग और सपना / नील कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आग और सपनों की
नहीं होती कोई जात

आग जंगल की तरह
फैल सकती है मय समंदर

सपनों की बारात
उस आख़िरी बचे आदमी की
आँख के दरवाज़े सजती है
और पसर जाती है
क़ातिल की छुरी से निकल
फूलों की मुस्कान में

आग और सपनों का
एक रिश्ता है

षोडसी की आँखो में
बचे रहते हैं सपने
जैसे बोरसी की राख में
बची रहती है आग

आग और सपनों की
नहीं होती कोई जात

बोरसी की आग घर-घर
जलाती है चूल्हे

षोडसी की आँखों में
जीवित रहती है आदमी होने की
पहली और आख़िरी पहचान ।