भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आग छूटी जा रही / श्याम नारायण मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उँगलियाँ सम्हालूँ
या दिया बालूँ,
आग छूटी जा रही है
मुट्ठियों से ।

        आग का आकार
        हाथों में अधूरा है,
        इसे भीतर तक उतरने दो ।

        दे रहा हूँ
        एक आकृति आग को
        रोशनी में धार धरने दो ।

आप भी अवसर मिले तो,
खोजना भीतर
आग जो माँ ने भरी
है घुट्टियों से ।