भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आग तेज गुरसी की / राम सेंगर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चटकी हाँड़ी
आग तेज गुरसी की ।
गई ज़िन्दगी
रस्म रह गई
बस, मातमपुर्सी की ।

दूध राख में मिला
हिलकता शिशु
हम
खिड़की ।
नामशेष रह गई
उड़ी पिंजरा ले पिड़की ।

क्या बोलें
क्या करें बहस अब
पेट-पाँव-कुर्सी की ।

गई ज़िन्दगी
रस्म रह गई
बस, मातमपुर्सी की ।